Monday, February 20, 2012

हमने आदत बना ली है

2 comments:

  1. नित्यानंद जी
    बहुत सही लिखा है आपने -हमने धीरे -धीरे आदत बना ली है अन्याय सहने की ....सत्य को नकारने की ..
    ज्ञानवर्धक पंक्तियाँ . ..

    ReplyDelete
  2. bahut khub...karara vyang, teekhi sachchai....

    ReplyDelete

बुखार में बड़बड़ाना

1. पहाड़ से उतरते हुए   शीत लहर ने मेरे शरीर में प्रवेश किया और तापमान बढ़ गया शरीर का शरीर तप रहा है मेरा भीतर ठंड का अहसास  इस अहसास ...