Monday, February 20, 2012

हमने आदत बना ली है

2 comments:

  1. नित्यानंद जी
    बहुत सही लिखा है आपने -हमने धीरे -धीरे आदत बना ली है अन्याय सहने की ....सत्य को नकारने की ..
    ज्ञानवर्धक पंक्तियाँ . ..

    ReplyDelete
  2. bahut khub...karara vyang, teekhi sachchai....

    ReplyDelete

बहुत साधारण हूँ

जी , मैं नहीं हूँ किसी बड़े अख़बार का संपादक न ही कोई बड़ा कवि हूँ बहुत साधारण हूँ और बहुत खुश हूँ आईना रोज देखता हूँ ... कविता के नाम पर अ...