Sunday, February 12, 2012

आइ.एम .सारी

भूला नही था 
सन सैंतालिस अभी 
आ गया पचहतर 
आपात बनकर
कुछ -कुछ 
अभी उबरा ही था 
उपचार अभी चल रहा था 
आगया 
सन चौरासी 

कुछ यादें 
हुई धुंधली सी 
उठा था 
संभलने को 
आ गया वर्ष 
दो हज़ार दो 

थका हुआ डाक्टर 
क्या करता 
नम आँखों से 
कह दिया -------
आइ.एम .सारी 

( सन 47 देश विभाजन ,सन 75 आपातकाल , सन 84 सिख विरोधी दंगे , और 2002 गोधरा कांड )

No comments:

Post a Comment

बहुत साधारण हूँ

जी , मैं नहीं हूँ किसी बड़े अख़बार का संपादक न ही कोई बड़ा कवि हूँ बहुत साधारण हूँ और बहुत खुश हूँ आईना रोज देखता हूँ ... कविता के नाम पर अ...