Tuesday, February 21, 2012

कहीं नही मेरा जहान



 

नोटों पर 
बापू  मुस्काए 
हरिजन क्यों 
आंसू बहाए 

खेसारी पर 
प्रतिबन्ध लगाये 
बतला दो 
हम क्या खाए 

खेतों पर 
सड़क उग आये 
बोलो हम 
क्या उगाये 
कुएं से जब 
निकले तेल 
क्या धोये 
क्या नहाये ?

मेरा देश है 
बड़ा महान 
कहीं नही 
             मेरा जहान...........



No comments:

Post a Comment

मुझमें सच को सच कहने का साहस बचा हुआ है अब तक

जस्टिस लोया की मौत की सनसनी वाली ख़बर को साझा नहीं किया सरकारी सेवा वाले प्रगतिशील और जनपक्षधारी किसी लेखक ने मैंने किया है ! इसका म...