Tuesday, February 21, 2012

कहीं नही मेरा जहान



 

नोटों पर 
बापू  मुस्काए 
हरिजन क्यों 
आंसू बहाए 

खेसारी पर 
प्रतिबन्ध लगाये 
बतला दो 
हम क्या खाए 

खेतों पर 
सड़क उग आये 
बोलो हम 
क्या उगाये 
कुएं से जब 
निकले तेल 
क्या धोये 
क्या नहाये ?

मेरा देश है 
बड़ा महान 
कहीं नही 
             मेरा जहान...........



No comments:

Post a Comment

मेरा देश रोना चाहता है बहुत जोर से चीख़ कर

मान लीजिये कि कभी आप चीख़ कर रोना चाहते हैं किन्तु रो नहीं सकते ! कैसा लगता है तब ? तकलीफ़ होती है न ? मेरा देश रोना चाहता है बहुत जोर से ...