Saturday, November 21, 2015

आकार बदलने लगे हैं पत्थर

समय के प्रभाव में 
आकार बदलने लगे हैं पत्थर
गोल -गोल पत्थर 
अब नुकीले हो रहे हैं ......
ये नुकीले  पत्थर  उठेंगे हाथों  में 
शोषण के  विरुद्ध  
न्याय  के पक्ष  में 
एक दिन  !

3 comments:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, हिन्दी फिल्मों के प्रेरणादायक संवाद - ब्लॉग बुलेटिन , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रगुजार हूँ ....सादर

      Delete
  2. पर वो दिन कब आएगा और कौन लाएगा पता नहीं :(

    http://ulatpalat.blogspot.in/2015/11/blog-post_27.html

    ReplyDelete

मेरा देश रोना चाहता है बहुत जोर से चीख़ कर

मान लीजिये कि कभी आप चीख़ कर रोना चाहते हैं किन्तु रो नहीं सकते ! कैसा लगता है तब ? तकलीफ़ होती है न ? मेरा देश रोना चाहता है बहुत जोर से ...