Friday, November 6, 2015

इन्कलाब ज़ारी रहे

आदिवासी जंगल से खदेड़े गए
किसान जमीन से बेदखल हुए
मज़दूर को बना दिया अपंग
मछुआरों से छीन लिया जाल और समन्दर
पहाड़ पर चढ़ गए टाटा, अडानी/ अम्बानी और जिंदल
अब बाकी बचे नागरिकों से देश छिना जा रहा है .
ज़मीन की लड़ाई लम्बी होती है साथियों....|
इन्कलाब ज़ारी रहे ......

चित्र : गूगल  से  साभार 

No comments:

Post a Comment

इस नये इतिहास में हमारा स्थान कहाँ होगा

हक़ीकत की जमीन से कट कर हमने आभासी दुनिया में बसेरा बना लिया है हवा में दुर्गंध फैलता जा रहा है हमने सांसों का सौदा कर लिया है जमीन धस ...