Wednesday, June 6, 2012

बंद आँखों से खोजना मुझे

तुम्हारे कांधों से 
जब उतरे 
मेरी सांसे 
और भीग जाये 
तुम्हारा तन 
मेरे अश्कों से
तब....
बंद आँखों से खोजना मुझे
तुम बीते हुए

 हर लम्हे  में
मेरी मौजूदगी का अहसास होने तक .........

2 comments:

मुझे सपने में देखना

जब तक मैं लौटा गहरी नींद आ चुकी थी तुम्हें तुम्हारे दिये  जंगली फूल की मीठी खुशबू से भर गया था मेरा कमरा तुम्हारी नींद में कोई ख़लल न ...