Wednesday, June 6, 2012

बंद आँखों से खोजना मुझे

तुम्हारे कांधों से 
जब उतरे 
मेरी सांसे 
और भीग जाये 
तुम्हारा तन 
मेरे अश्कों से
तब....
बंद आँखों से खोजना मुझे
तुम बीते हुए

 हर लम्हे  में
मेरी मौजूदगी का अहसास होने तक .........

2 comments:

इस नये इतिहास में हमारा स्थान कहाँ होगा

हक़ीकत की जमीन से कट कर हमने आभासी दुनिया में बसेरा बना लिया है हवा में दुर्गंध फैलता जा रहा है हमने सांसों का सौदा कर लिया है जमीन धस ...