Thursday, June 7, 2012

चाँद की बेचैनी ......

जल दर्पण में 
देखा चाँद को 
एक दम शांत 
लहरों ने किया विचलित रह -रह कर 
पानी को मालूम था 
चाँद की बेचैनी ......

4 comments:

  1. खूबसूरत..............
    बेहद खूबसूरत........................

    अनु

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर रचना!

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया संजय जी

      Delete

मुझमें सच को सच कहने का साहस बचा हुआ है अब तक

जस्टिस लोया की मौत की सनसनी वाली ख़बर को साझा नहीं किया सरकारी सेवा वाले प्रगतिशील और जनपक्षधारी किसी लेखक ने मैंने किया है ! इसका म...