Thursday, June 7, 2012

चाँद की बेचैनी ......

जल दर्पण में 
देखा चाँद को 
एक दम शांत 
लहरों ने किया विचलित रह -रह कर 
पानी को मालूम था 
चाँद की बेचैनी ......

4 comments:

  1. खूबसूरत..............
    बेहद खूबसूरत........................

    अनु

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर रचना!

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया संजय जी

      Delete

मैं मजाक का पात्र हूँ

जानता हूँ कि मैं मजाक का पात्र बन चुका हूँ इस समय सच कहने वाला हर शख्स  मज़ाक का पात्र है आपके लिए  हर भावुक व्यक्ति जो मेरी तरह बिना क...