Thursday, June 7, 2012

चाँद की बेचैनी ......

जल दर्पण में 
देखा चाँद को 
एक दम शांत 
लहरों ने किया विचलित रह -रह कर 
पानी को मालूम था 
चाँद की बेचैनी ......

4 comments:

  1. खूबसूरत..............
    बेहद खूबसूरत........................

    अनु

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर रचना!

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया संजय जी

      Delete

मेरा देश रोना चाहता है बहुत जोर से चीख़ कर

मान लीजिये कि कभी आप चीख़ कर रोना चाहते हैं किन्तु रो नहीं सकते ! कैसा लगता है तब ? तकलीफ़ होती है न ? मेरा देश रोना चाहता है बहुत जोर से ...