Monday, June 11, 2012

संभलकर परखना ....

मुझे देख लो 
उन्हें भी देखना 
जो , आयेंगे मेरे बाद 
बस तुम परखते जाना 
लेते जाना अनुभव 

पर , सावधान

संभलकर परखना ....
आदमी खो जाता है
दूर चला जाता है
हर रिश्ते से
कई बार ..
परखते -परखते

No comments:

Post a Comment

मैं मजाक का पात्र हूँ

जानता हूँ कि मैं मजाक का पात्र बन चुका हूँ इस समय सच कहने वाला हर शख्स  मज़ाक का पात्र है आपके लिए  हर भावुक व्यक्ति जो मेरी तरह बिना क...