Thursday, June 7, 2012

मैं सक्रिय हूँ अहसास होता रहे |

मेरा विरोध 
यूँ ही जारी रहे 
ताकि , 
मैं सक्रिय हूँ 
अहसास होता रहे |

रोज करो
तुम मेरी मौत की दुआ
मैं जीवित हूँ
अहसास होता रहे |

यूँ ही देते रहो 
अहसानों के ताने
ताकि , मैं ऋणी हूँ तुम्हारा
यह अहसास होता रहे |

छुप कर करो वार
पीठ पर
एक दुश्मन है मेरा, कायर
अहसास होता रहे |

2 comments:

  1. बहुत खूब ....बहुत पसंद आया ...सही और सच है आपके हर लफ्ज में ...

    ReplyDelete
  2. bahut khoob, bahut sahj shbdo me gahn arth smetne ka fnn hai aapme nittya ji.

    ReplyDelete

इस नये इतिहास में हमारा स्थान कहाँ होगा

हक़ीकत की जमीन से कट कर हमने आभासी दुनिया में बसेरा बना लिया है हवा में दुर्गंध फैलता जा रहा है हमने सांसों का सौदा कर लिया है जमीन धस ...