Monday, June 11, 2012

कायरता के सभी गुणों से पूर्ण कोई बहादुर नही होता .....

खुले आकाश के पंछी को 
बनाना निशाना 
बहादुरी नही 
धर्म ध्वजा उठाकर चीखना 
बहादुरी नही 
निरुत्तर होकर
हाथ उठाना भी
नही है बहादुरी 


करों सामना लहरों का
तूफान से लड़ों
पिंजरे के  पंछी का
पंख काटना
बहादुरी नही
कायरता के सभी गुणों से पूर्ण
कोई बहादुर नही होता .....

1 comment:

मेरा देश रोना चाहता है बहुत जोर से चीख़ कर

मान लीजिये कि कभी आप चीख़ कर रोना चाहते हैं किन्तु रो नहीं सकते ! कैसा लगता है तब ? तकलीफ़ होती है न ? मेरा देश रोना चाहता है बहुत जोर से ...