Thursday, March 13, 2014

मुझ पर यह आरोप है

मुझ पर यह
आरोप है 
कि मैंने किया है उपहास 
उनके भगवान का |
यह आरोप 
मैने स्वीकार किया, 
पक्षपाती भगवान के लिए 
नही है कोई आदर 
मेरे मन में ....

2 comments:

इन्सान नमक हराम होता है!

  नमक तो नमक ही है नमक सागर में भी है और इंसानी देह में भी लेकिन, इंसानी देह और समंदर के नमक में फ़र्क होता है! और मैंने तुम्हारी देह का नमक...