Thursday, November 16, 2017

तोड़ने और नोचने में फ़र्क तो होता है

तोड़ने और नोचने में फ़र्क तो होता है
पर दोनों की क्रियाओं में हिंसा होती है
नोचने का निशान गहरा होता है
हो सकता है दिनों -महीनों तक घाव से रिसता रहे पानी
और टूटा हुआ बिखर जाता है
हम सब इस समय
नोचे जा रहे हैं
तोड़े जा रहे हैं
और हम उन नोचने , तोड़ने वालों को पहचानते हुए भी
लगातर ख़ामोशी से पीड़ा सह रहे हैं
हमारी ऐसी क्या मज़बूरी है ?
बात केवल क्रूर और निरंकुश सत्ता की नहीं है
हमारे आस-पास भी तमाम ऐसे हाथ और नाख़ून हैं
जो तोड़ने - नोचने में माहिर हैं
अक्सर उनकी शिकायत करने से कतराते हैं हम
आखिर हमारी मज़बूरी क्या है
ज़रूरी नहीं कि केवल हाथ और नाख़ून ही नोचें हर बार
इनदिनों शब्द /भाषा भी बहुत धारदार हो चुकी है
और जुबान से नोचने -टूटने का कोई निशान दिखाई नहीं पड़ता
उदास किसी चेहरे को पढ़ना हमने सीखा नहीं अभी तक
मृत देह पर अफ़सोस जताना मानव सभ्यता की प्राचीन परम्परा है
जबकि जीवित किसी मनुष्य को ख़ुशी देना
हमारी आदत नहीं बनी !
मनुष्य सदियों से हिंसा के पथ पर अग्रसर है
वह आधुनिक से अतिआधुनिक होने का दावा करता है
उसका हासिल है -हिंसा , नफ़रत , द्वेष और युद्ध
जंगल,
जमीन,
नदी , पर्वत
और लाखों विलुप्त जीव गवाह है !
अब हत्यारों के मंदिर बनायें जा रहे हैं
अपने देश में !

No comments:

Post a Comment

'भाग्य-विधाता' तस्वीर में मुस्कुरा रहे हैं

  बहुत अजीब सी ख़ामोशी है जबकि आतंक लगातार तांडव कर रहा है हमारे आसपास इसे भय कहा जाए या बेशर्मी ! मेरे कमरे से संविधान नामक पुस्तक गायब है ज...