Thursday, September 24, 2015

पता नहीं कितना बचा हूँ अब

मैं मिट रहा हूँ 
पल-पल
पता नहीं कितना बचा हूँ अब
कल रात ही मिटा दिया 
मैंने उन रातों को 
जो हमने गुजारी साथ-साथ
चाँद गवाह है
कि मैंने नहीं किया कोई फ़रेब तुम्हारे साथ
बस आ गया था अमावस हमारे बीच
जिसे तुमने मेरा धोखा समझा ||



4 comments:

  1. बेहद खूबसूरत नित्या जी

    ReplyDelete
  2. जिस रात का गवाह चाँद है उसे कोई कैसे मिटा सकता है।

    ReplyDelete
  3. जिस रात का गवाह चाँद है उसे कोई कैसे मिटा सकता है।

    ReplyDelete
  4. हौसला अफजाई के लिए आप सभी का शुक्रिया |

    ReplyDelete

इन्सान नमक हराम होता है!

  नमक तो नमक ही है नमक सागर में भी है और इंसानी देह में भी लेकिन, इंसानी देह और समंदर के नमक में फ़र्क होता है! और मैंने तुम्हारी देह का नमक...