Sunday, March 14, 2010

मेरे आंगन में

मेरे आंगन में
अब चिड़िया नहीं आती
दाना चुगने
शायद उन्हें पता चल गया है
महंगाई का स्तर
और मेरी हालात का .

मेरे आंगन में 
नीम का जो पेड़  था 
पर्णहीन हो चुका है अब 
सदा के लिए 
मेरा आंगन अब 
बंज़र हो चुका है .

झरने अब गीत नहीं गाते 
पहाड़ो से गिरना रुक गया है उनका 
उनके पहाड़ों पर 
अब आदमी का बसेरा है .
तालाबों के मेढकों ने 
"वीजा" पा लिया है 
किसी दुसरे देश का 
अब वे अप्रवासी  कहलाते हैं .  

2 comments:

  1. बहुत सुन्दर मनुष्य की करनी को बहुत ही सुन्दर सहज शब्दों में पिरोया है आपने ......

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर मनुष्य की करनी को बहुत ही सुन्दर सहज शब्दों में पिरोया है आपने ......

    ReplyDelete

इन्सान नमक हराम होता है!

  नमक तो नमक ही है नमक सागर में भी है और इंसानी देह में भी लेकिन, इंसानी देह और समंदर के नमक में फ़र्क होता है! और मैंने तुम्हारी देह का नमक...