Friday, March 30, 2012

उन्हें नहीं है रोटी की चिंता

उन्हें नहीं है 
रोटी की चिंता 
कोई आकर बना जाता है 

वे सिर्फ खाने में माहिर हैं 
बड़ी तबियत से खाते हैं 
पचा भी लेते हैं .....

वो जो आकर 
सेंक जाता है रोटियां 
उनके लिए
उन्हें वे
हरामखोर कहते है ..

4 comments:

  1. वो जो आकर
    सेंक जाता है रोटियां
    उनके लिए
    उन्हें वे
    हरामखोर कहते है ..सही है

    ReplyDelete
  2. बिल्‍कुल सच कहा है ...

    ReplyDelete
  3. सच कहा है......शब्द शब्द बाँध लेता है ...बधाई स्वीकारें

    ReplyDelete
  4. आभार आप सभी का ..................

    ReplyDelete

'भाग्य-विधाता' तस्वीर में मुस्कुरा रहे हैं

  बहुत अजीब सी ख़ामोशी है जबकि आतंक लगातार तांडव कर रहा है हमारे आसपास इसे भय कहा जाए या बेशर्मी ! मेरे कमरे से संविधान नामक पुस्तक गायब है ज...