Thursday, December 28, 2017

उसने खोज ली एक बहती नदी मेरी आँखों में

मैं खोज रहा था आग
आँखों में,
उसने खोज लिया प्रेम
मेरी आँखों में
मैं तो खोज रहा था पत्थर
उसने खोज ली एक बहती नदी मेरी आँखों में
दरअसल मेरी आँखों में बहती नदी
उसकी वेदना की कहानी है
मैंने देखा झांक कर उसकी आँखों में
खुद को पा लिया |

No comments:

Post a Comment

'भाग्य-विधाता' तस्वीर में मुस्कुरा रहे हैं

  बहुत अजीब सी ख़ामोशी है जबकि आतंक लगातार तांडव कर रहा है हमारे आसपास इसे भय कहा जाए या बेशर्मी ! मेरे कमरे से संविधान नामक पुस्तक गायब है ज...