Wednesday, April 17, 2019

उसके हाथों में खून के धब्बे नहीं बचे हैं

उसके हाथों में
खून के धब्बे नहीं बचे हैं
किन्तु जले हुए
इंसानी मांस की दुर्गन्ध आती है
तमाम अपराधों में नामज़द अपराधी 
उसकी मंडली में शामिल हैं
इतना ही नहीं
वह भेजता है अपने एक वज़ीर को
हत्यारों के स्वागत के लिए
मिष्ठान और माला के साथ
हत्या के बाद जश्न में शामिल शैतान
उसके मित्र हैं
कोई हैरानी नहीं है कि ये सभी
एक अपराधी के सामान्य गुण हैं
हैरानी इस बात पर होती है कि
एक जज मारा गया
और अदालत ने कुछ नहीं कहा
चिंता इस बात की है
लोग तो मरें
और मारने वाले को निर्दोष बताया गया
सबूतों के अभाव में
'वी दि पीपुल' हम नहीं रहें
वह संविधान बदलना चाहता है
और हम आपस में
एक-दूसरे को नीच साबित करने की मुहीम में लगे हुए हैं
आने वाले दिनों में अँधेरा और गहराएगा
तानाशाह अपनी जीत पर नहीं
हमारी मूर्खता पर जोर से ठहाका लगाएगा

1 comment:

'भाग्य-विधाता' तस्वीर में मुस्कुरा रहे हैं

  बहुत अजीब सी ख़ामोशी है जबकि आतंक लगातार तांडव कर रहा है हमारे आसपास इसे भय कहा जाए या बेशर्मी ! मेरे कमरे से संविधान नामक पुस्तक गायब है ज...