Wednesday, May 29, 2019

यह भूल सुधारने का वक्त है

सब ख़ामोश हो गए अचानक
कुछ फुसफुसा रहे हैं
मेरी तरह
कुछ अपने बचाव में
संविधान की दुहाई दे रहे हैं 
और भूल गए संविधान बदल देने की बात करने वालों का चेहरा
यही तो वक्त है
पहचानने की
कि पार्टनर की पॉलिटिक्स क्या है
मेरे मुक्तिबोध !
आओ , एक -एक चेहरे की सूची बना लें अब हम
ताकि देर होने पर कोई मलाल न रहे
इस बीच कुछ ने सरकारी नौकरी पा ली है
कुछ पाने की जुगाड़ में है
कुछ ने तो लिखित रूप में सत्ता के पक्ष में समर्थन की घोषणा की है
और वे ज्यादा ईमानदार हैं उनसे
जो मेरे बगल में ख़ामोश बैठा है
अन्याय की इस घड़ी में
और वही सबसे ख़तरनाक और चालाक है
जबकि उसे अब तक हम
सामूहिक हक़ की लड़ाई के सिपाही के रूप में देख रहे थे
यह भूल सुधारने का वक्त है
वक्त है लड़ाई की तैयारी की
आओ अपने बीच छिपे मानवता के गद्दारों को पहचाने
तानाशाही सत्ता से लड़ने की नई ऊर्जा को
संचित करें
और लक्ष्य हासिल तक
शाहिद होने को तैयार करें ख़ुद को
ताकि आने वाली पीढ़ी के आगे हमें शर्मिंदा न होना पड़े
कि हमने उनके भविष्य के लिए कोई लड़ाई नहीं लड़ी ।

6 comments:

  1. ताकि आने वाली पीढ़ी के आगे हमें शर्मिंदा न होना पड़े
    कि हमने उनके भविष्य के लिए कोई लड़ाई नहीं लड़ी
    बहुत खूब... ,सादर नमस्कार

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत शुक्रिया आपका .
      प्रणाम |

      Delete
  2. आओ अपने बीच छिपे मानवता के गद्दारों को पहचाने

    सब सबको पहचानते हैं।
    बस लगे हुऐ हैं मुखौटे को बचाने की जुगत में।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत खूब , सर |
      शुक्रिया

      Delete
  3. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन हिन्दी के पहले समाचार-पत्र 'उदन्त मार्तण्ड' की स्मृति में ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है.... आपके सादर संज्ञान की प्रतीक्षा रहेगी..... आभार...

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत शुक्रिया आपका , सर |

      Delete

'भाग्य-विधाता' तस्वीर में मुस्कुरा रहे हैं

  बहुत अजीब सी ख़ामोशी है जबकि आतंक लगातार तांडव कर रहा है हमारे आसपास इसे भय कहा जाए या बेशर्मी ! मेरे कमरे से संविधान नामक पुस्तक गायब है ज...