Thursday, May 30, 2019

देखिये, मंज़र-ए-आम

मज़हब के बाज़ार में
बिक गया अवाम

कुछ को है हैरानी
हंसते उधर तमाम

देखिये, मंज़र-ए-आम 
बाहर मयखाने के छलक रहे जाम 


3 comments:

  1. बहुत खूब... ,सादर नमस्कार

    ReplyDelete
    Replies
    1. हौसलाअफजाई के लिए शुक्रिया आपका

      सादर नमस्कार

      Delete
  2. बहुत बढ़िया

    ReplyDelete

'भाग्य-विधाता' तस्वीर में मुस्कुरा रहे हैं

  बहुत अजीब सी ख़ामोशी है जबकि आतंक लगातार तांडव कर रहा है हमारे आसपास इसे भय कहा जाए या बेशर्मी ! मेरे कमरे से संविधान नामक पुस्तक गायब है ज...