Thursday, May 30, 2019

देखिये, मंज़र-ए-आम

मज़हब के बाज़ार में
बिक गया अवाम

कुछ को है हैरानी
हंसते उधर तमाम

देखिये, मंज़र-ए-आम 
बाहर मयखाने के छलक रहे जाम 


3 comments:

  1. बहुत खूब... ,सादर नमस्कार

    ReplyDelete
    Replies
    1. हौसलाअफजाई के लिए शुक्रिया आपका

      सादर नमस्कार

      Delete
  2. बहुत बढ़िया

    ReplyDelete

इन्सान नमक हराम होता है!

  नमक तो नमक ही है नमक सागर में भी है और इंसानी देह में भी लेकिन, इंसानी देह और समंदर के नमक में फ़र्क होता है! और मैंने तुम्हारी देह का नमक...