Wednesday, September 22, 2010

बारिश की बूंदों को देखता रहा

झम झम गिरते
बारिश  की बूंदों को देखता रहा
उनके कदम तालों को
मग्न होकर सुनता रहा
कभी रवि ठाकुर को
कभी बाबा की पंक्तियों को
याद करता रहा
"जल पड़े
पाता नड़े " या
धिन- धिन -धा"
वाह रे  काली  घटा
तान सेन ने ली होगी
कभी तुम्ही से संगीत की शिक्षा
हे बारिश के बूँद
हे मेघ दूत
तुम्ही से मिली थी शायद
कालीदास को  प्रेरणा ..

No comments:

Post a Comment

इन्सान नमक हराम होता है!

  नमक तो नमक ही है नमक सागर में भी है और इंसानी देह में भी लेकिन, इंसानी देह और समंदर के नमक में फ़र्क होता है! और मैंने तुम्हारी देह का नमक...